आग सूरज में होती है जलना ज़मीन को परता हैं

मोब्बत निगाहैं करती हैं तरपना दिल को परता हैं