अजीब ज़ुल्म करती है, तेरी यादें

सोचूं तो बिखर जाऊं, ना सोचूं तो किधर जाऊं