भस्म धारी देव मेरे , कुंडल जिनके कान मैं ।

मौत से मैं क्यु डरु, जब बाबा बैठे श्मशान मैं ।।