बोलने से पहले शब्द मनुष्य के वश में होते है,

किंतु बोलने के बाद मनुष्य शब्दों के वश में हो जाता है ।