“छुप छुप कर क्यूँ पढ़ते हो…… अल्फ़ाजों को मेरे…

सीधे दिल ही पढ़ लो…… सांसों तक तुम ही हो..😊 😉”