एक परवाह ही बताती है कि ख़्याल कितना है, वरना कोई तराजू नहीं होता रिश्तो में