एक सुकून सा मिलता है….तुझे सोचने से भी

फिर कैसे कह दूँ…मेरा इश्क़ बेवजह सा है,