इंसान के भीतर जो छलके वो स्वाभिमान है,

और बाहर जो छलके वो अभिमान है…