जलने और जलाने का बस इतना सा फलसफा है “साहिब”..!

फिक्र में होते है तो,खुद जलते हैं…बेफ़िक्र होते हैं तो दुनिया जलती है…!!!