कोशिश तो अंतिम क्षण तक करनी चाहिए, सफलता मिले या तजुर्बा, दोनों ही चीजें नायाब है ।