लबों पे उसके कभी बदुआ नहीं होती ।

बस एक माँ है जो मुझसे खफा नहीं होती।।