लफ़्ज़ों की दहलीज पर घायल जुबान है

कोई तन्हाई से तो कोई महफ़िल से परेशान है..✍️