मास्टर जी एक होटल में ख़ाली कटोरी में रोटी डुबो-डुबो कर खा रहे थे।

वेटर ने पूछा:

मास्टरजी ख़ाली कटोरी में कैसे खा रहे हैं?

मास्टर जी:

भइया, हम गणित के अध्यापक हैं।

दाल हमने ‘मान ली’ है।