में शायर नही था में तो एक नादान परिंदा था।

तुझ जैसे फूल को देखा, तबसे बदनाम परिंदा हों।