मिल जाता है दो पल का सुकूंन चंद यारों की बंदगी में….

वरना परेशां कौन नहीं अपनी-अपनी ज़िंदगी में…