मिलते नही जो हक, वो लिए जाते हैं,

है आजाद हम, पर गुलाम किये जाते हैं,

उन सिपाहियों को रात-दिन नमन करो,

मौत के साए, में जो जिए जाते हैं