ना चाँद अपना था, ना तू अपना था

काश ये दिल मान ले की वो सब सपना था