न जिद है न कोई गुरूर है हमे,

बस तुम्हे पाने का सुरूर है हमे,

इश्क गुनाह है तो गलती की हमने,

सजा जो भी हो मंजूर है हमे।