रात में एक टूटता तारा देखा बिलकुल मेरे जैसा था…

चाँद को कोई फर्क नहीं पड़ा बिलकुल तेरे जैसा था….!!