तुम क्या जानो ग़म क्या होता है, बाबु… ????

तूमने तो हमेशा चावल से ही फटे पतंग को चिपकाया है…