तूने ज़ुल्फ़ क्या संवारी,

            मेरी किस्मत निखर गयी..!

उलझने तमाम मेरी,

            तेरी लटों  में संवर गयी....!!