उड़ा भी दो सारी रंजिशें इन हवाओं में यारो,

छोटी सी जिंदगी है नफ़रत कब तक करोगे ।।