उम्मीदों से बंधा…

एक जिद्दी परिंदा है इंसान…

जो घायल भी उम्मीदों से है और…

जिंदा भी उम्मीदों पर हैं…!!