वो किताब लौटाने का बहाना तो लाखों में था,

लोग ढूढ़ते रहे सबूत, पैगाम तो आँखों में था।