वो उम्र भर कहते रहे तुम्हारे सीने में दिल ही नहीं

दिल का दौरा क्या पड़ा, ये दाग भी धुल गया